Logo 011-40200000
Logo 8750 931 000

श्री शक्ति वास्तु

Vastu shastra
वास्तु का शाब्दिक अर्थ निवासस्थान होता है। इसके सिद्धांत वातावरण में जल, पृथ्वी, वायु, अग्नि और आकाश तत्वों के बीच एक सामंजस्य स्थापित करने में मदद करते हैं। जल, पृथ्वी, वायु, अग्नि और आकाश इन पाँचों तत्वों का हमारे कार्य प्रदर्शन, स्वभाव, भाग्य एवं जीवन के अन्य पहलुओं पर प्रभाव पड़ता है। यह विद्या भारत की प्राचीनतम विद्याओं में से एक है। जिसका संबंध दिशाओं और ऊर्जाओं से है। इसके अंतर्गत दिशाओं को आधार बनाकर आसपास मौजूद नकारात्मक ऊर्जाओं को कुछ इस तरह सकारात्मक किया जाता है, ताकि वह मानव जीवन पर अपना प्रतिकूल प्रभाव ना डाल सकें। हर मनुष्य की इच्छा होती है कि उसका घर सुंदर और सुखद हो, जहां सकारात्मक ऊर्जा का वास हो, जहां रहने वालों का जीवन सुखमय हो। इसके लिए आवश्यक है कि घर वास्तु सिद्धांतो के अनुरूप हो और यदि उसमे कोई वास्तु दोष हो, तो उसका वास्तुसम्मत सुधार किया जाए। यदि मकान की दिशाओ मे या भूमि मे दोष हो तो उस पर कितनी भी लागत लगाकर मकान खड़ा किया जाए, उसमे रहने वालो की जीवन सुखमय नहीं होता। इसके लिए आप हमारे यहाँ “श्री शक्ति ज्योतिष संस्थान” में संपर्क करें, हमारे यहाँ के विद्वान वास्तु शास्त्र विशेषज्ञ आपके घर में बिना किसी तोड़ फोड़ के घर में पूर्णतः वास्तु दोष की शांति करके आपके सभी परिवार के सदस्यों में मधुर सम्बन्ध और मान सम्मान के साथ धन की बरकत के मार्ग खोलते हैं एवं परिवार में खुशहाली स्थापित करते हैं।

हमारी सेवाएँ:-

1. दोष निवृत्ति के लिए आपके ग्रह अनुसार पिरामिड, सम्पूर्ण वास्तु दोष निवारक यंत्र ,फेंगशुई एवं द्वार सुरक्षा कवच ।

2. वास्तु सम्मत नक्शा (भूमि पूजन, वास्तु पूजन और दोष निवारण रिपोर्ट ) ।

3. वास्तु अनुसार कार्य के दौरान सुझाव, भवन की पूर्णता तक।

4. भवन, कमर्शियल कालोनी ,फैक्ट्री का वास्तु सम्मत निर्देशिक रिपोर्ट ।

5. श्री शक्ति वास्तु भवन या कमर्शियल भवनों के दोष निवृत्ति के लिए विजिट और हस्त लिखित रिपोर्ट।

संपर्क करें

कॉल वापसी के लिए अनुरोध करें

हमारा अनुसरण करे


हम सभी प्रकार के कार्ड स्वीकार करते हैं
payment American Card Mastro Master Card Master Card payment
संपर्क सुत्र

© 2019, सभी अधिकार सुरक्षित, श्री शक्ति ज्योतिष संस्थान| Developed By : Net Xperia
English
error: Content is protected !!